Posted on Leave a comment

Aarti Kunj Bihari Ki KRISHNA AARTI – HARIHARAN

Aarti Kunj Bihari Ki Aarti

Krishna Aarti: Aarti Kunj Bihari Ki

Album: AARTI

Singer: HARIHARAN

Music Label: T-Series

Aarti in English –

Aarti Kunj Bihari Hi Shri Girdhar Krishna Murari Ki
Gale Mein Baijanti Mala, Bajave Murali Madhur Bala।
Shravan Mein Kundal Jhalakala, Nand Ke Anand Nandlala।
Gagan Sam Ang Kanti Kali, Radhika Chamak Rahi Aali।
Latan Mein Thadhe Banamali;Bhramar Si Alak, Kasturi Tilak, Chandra Si Jhalak;
Lalit Chavi Shyama Pyari Ki॥ Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ Aarti Kunj Bihari Ki
Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ x2

Kanakmay Mor Mukut Bilse, Devata Darsan Ko Tarse।
Gagan So Suman Raasi Barse;Baje Murchang, Madhur Mridang, Gwaalin Sang;
Atual Rati Gop Kumaari Ki॥ Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ Aarti Kunj Bihari Ki
Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ x2

Jahaan Te Pragat Bhayi Ganga, Kalush Kali Haarini Shri Ganga।
Smaran Te Hot Moh Bhanga;Basi Shiv Shish, Jataa Ke Beech, Harei Agh Keech;
Charan Chhavi Shri Banvaari Ki॥ Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ Aarti Kunj Bihari Ki
Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ x2

Chamakati Ujjawal Tat Renu, Baj Rahi Vrindavan Benu।
Chahu Disi Gopi Gwaal Dhenu; Hansat Mridu Mand, Chandani Chandra, Katat Bhav Phand; Ter Sun Deen Bhikhaaree Ki॥ Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥
Aarti Kunj Bihari Ki Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥ x2

Aarti Kunj Bihari Ki, Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥
Aarti Kunj Bihari Ki, Shri Girdhar Krishna Murari Ki॥

Aarti In Hindi –

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की
गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।
श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।
गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।
लतन में ठाढ़े बनमाली;
भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक;
ललित छवि श्यामा प्यारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।
गगन सों सुमन रासि बरसै;
बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;
अतुल रति गोप कुमारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।
स्मरन ते होत मोह भंगा;
बसी सिव सीस, जटा के बीच, हरै अघ कीच;
चरन छवि श्रीबनवारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू;
हंसत मृदु मंद,चांदनी चंद, कटत भव फंद;
टेर सुन दीन भिखारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

https://www.youtube.com/watch?v=EMO1AT1UQf0

Posted on Leave a comment

Jai Ambe Gauri Aarti – Anuradha Paudwal

Jai Ambe Gauri Aarti

Devi Bhajan: Jai Ambe Gauri

Album: Aartiyan

Singer: Anuradha Paudwal

Music Label: T-Series

Aarti in English –

Jai Ambe Gauri, Maiya Jai Shyama Gauri.
Tumako Nishadin Dhyavat, Hari Bramha Shivari.
Om Jai Ambe Gauri

Mang Sindur Virajat, Tiko Mrigamad Ko.
Ujjval Se Dou Naina, Chandravadan Niko.
Om Jai Ambe Gauri

Kanak Saman Kalevar, Raktambar Raje,
Raktpushp Gal Mala, Kanthan Par Saje.
Om Jai Ambe Gauri

Kehari Vahan Rajat, Khadag Khappar Dhari,
Sur-Nar-Munijan Sevat, Tinake Dukhahari.
Om Jai Ambe Gauri

Kaanan Kundal Shobhit, Nasagre Moti,
Kotik Chandr Divakar, Rajat Sam Jyoti.
Om Jai Ambe Gauri

Shumbh-Nishumbh Bidare, Mahishasur Ghati,
Dhumr Vilochan Naina, Nishadin Madamati.
Om Jai Ambe Gauri

Chand-Mund Sanhare, Shonit Bij Hare,
Madhu-Kaitabh Dou Mare, Sur Bhayahin Kare.
Om Jai Ambe Gauri

Bramhani, Rudrani,Tum Kamala Rani,
Agam Nigam Bakhani,Tum Shiv Patarani.
Om Jai Ambe Gauri

Chausath Yogini Mangal Gavat,Nritya Karat Bhairu,
Bajat Tal Mridanga,Aru Baajat Damaru.
Om Jai Ambe Gauri

Tum Hi Jag Ki Mata, Tum Hi Ho Bharata,
Bhaktan Ki Dukh Harta, Sukh Sampati Karta.
Om Jai Ambe Gauri

Bhuja Char Ati Shobhi,Varamudra Dhari,
Manvanchhit Fal Pavat,Sevat Nar Nari.
Om Jai Ambe Gauri

Kanchan Thal Virajat, Agar Kapur Bati,
Shrimalaketu Mein Rajat, Koti Ratan Jyoti .
Om Jai Ambe Gauri

Shri Ambeji Ki Arati, Jo Koi Nar Gave,
Kahat Shivanand Svami, Sukh-Sampatti Pave.
Om Jai Ambe Gauri

Aarti In Hindi –

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत, तुमको निशिदिन ध्यावत
हरि ब्रह्मा शिवरी ॐ जय अम्बे गौरी

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत, तुमको निशिदिन ध्यावत
हरि ब्रह्मा शिवरी ॐ जय अम्बे गौरी

माँग सिन्दूर विराजत, टीको जगमग तो
उज्जवल से दो‌ नैना, चन्द्रवदन नीको
ॐ जय अम्बे गौरी

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै
रक्तपुष्प गल माला, कण्ठन पर साजै
ॐ जय अम्बे गौरी

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्परधारी
सुर-नर-मुनि-जन सेवत, तिनके दुखहारी
ॐ जय अम्बे गौरी

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती
कोटिक चन्द्र दिवाकर, सम राजत ज्योति
ॐ जय अम्बे गौरी

शुम्भ-निशुम्भ बिदारे, महिषासुर घाती
धूम्र विलोचन नैना, निशिदिन मदमाती
ॐ जय अम्बे गौरी

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे
मधु-कैटभ दो‌उ मारे, सुर भयहीन करे
ॐ जय अम्बे गौरी

ब्रहमाणी रुद्राणी तुम कमला रानी
आगम-निगम बखानी, तुम शिव पटरानी
ॐ जय अम्बे गौरी

चौंसठ योगिनी गावत, नृत्य करत भैरव
बाजत ताल मृदंगा, और बाजत डमरु
ॐ जय अम्बे गौरी

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता
भक्‍तन की दु:ख हरता, सुख सम्पत्ति करता
ॐ जय अम्बे गौरी

भुजा चार अति शोभित, वर-मुद्रा धारी
मनवान्छित फल पावत, सेवत नर-नारी
ॐ जय अम्बे गौरी

कन्चन थाल विराजत, अगर कपूर बाती
श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति
ॐ जय अम्बे गौरी

श्री अम्बेजी की आरती, जो को‌ई नर गावै
कहत शिवानन्द स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै
ॐ जय अम्बे गौरी

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत, तुमको निशिदिन ध्यावत
हरि ब्रह्मा शिवरी ॐ जय अम्बे गौरी

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

Posted on Leave a comment

Lakshmi Ji Aarti – Anuradha Paudwal

Lakshmi Ji Aarti

Devi Lakshmi Aarti: Om Jai Laxmi Mata

Album: Aartiyan

Singer: Anuradha Paudwal

Music Label: T-Series

Aarti In English –

Om Jai Lakshmi Mata,
Maiya Jai Lakshmi Mata,
Tumko Nishdin Sevat,
Har Vishnu Dhyavat.
Om Jai Lakshmi Mata..x(2)
Uma Rama Bharmani
Tum Hi Jag Mata,
Surya Chandrma Dhyavat Naard Rishee Gata.
Om Jai Lakshmi Mata

Durga Roop Niranjani, Sukh Sampati Data,
Jo Koi Tum Ko Dhayata, Riddhi Siddhi Pata.
Om Jai Lakshmi Mata

Tum Patal Nivasini, Tum Hi Shubh Data,
Karam-Prabhav-Prakashini,
Bhav Nidhi Ki Trata.
Om Jai Lakshmi Mata

Jis Ghar Main Tum Rahti,
Sab Sadgun Aata,
Maiyaa sab Sadgun Aata,
Sub Sambhav Ho Jata,
Man Nahi Ghabrata.
Om Jai Lakshmi Mata

Tum Bin Yagya Na Hove,
Vastra No Koi Pata,
Khan-Pana Ka Vaibhav,
Sub Tumse Pata.
Om Jai Lakshmi Mata

Shubhgun Mandir Sundar,
Sheerodadhi Jata,
Ratan Chaturdhsh Tum Bin,
Koi Nahi Pata.
Om Jai Lakshmi Mata

Mahalakshmi Ji Ki Aarti,
Jo Koi Jan Gata,
pur Anand Samata,
Pap Utar Jata.
Om Jai Lakshmi Mata

Aarti In Hindi –

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता 
सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता
 ॐ जय लक्ष्मी माता-2


दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता 
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता 
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता 
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2


शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता 
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

Posted on Leave a comment

Shiv Ji Aarti – Anuradha Paudwal

Shiv Ji Aarti

Shiv Bhajan: Om Jai Shiv Omkara

Album: Aartiyan

Singer: ANURADHA PAUDWAL

Music Label: T-Series

Aarti In English –

Om Jai Shiv Omkara, Swami Jai Shiv Omkara।

Brahma Vishnu Sadashiv, Ardhangi Dhara॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Ekanan Chaturanan Panchanan Raje।

Hansasan Garudasan Vrishvahan Saje॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Do Bhuj Chaar Chaturbhuj Dashbhuj Ati Sohe।

Trigun Roop Nirakhate Tribhuvan Jan Mohe॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Akshmala Vanmala Mundmala Dhari।

Tripurari Kansari Kar Mala Dhari॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Shvetambar Pitambar Baghambar Ange।

Sankadik Garunadik Bhootadik Sange॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Kar Ke Madhya Kamandalu Chakra Trishuldhari।

Sukhkari Dukhhari Jagpalan Kari॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Brahma Vishnu Sadashiv Janat Aviveka।

Pranavakshar Ke Madhye Yeh Teeno Eka॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Kashi Mein Vishwanath Viraje Nandi Brahmachari।

Nit Uth Darshan Paavat, Mahima Ati Bhaari॥

Om Jai Shiv Omkara॥

TrigunswamiJi Ki Aarti, Jo Koi Nar Gaave।

Kahat Shivanand Swami, Manvanchit Phal Paave॥

Om Jai Shiv Omkara॥

Om Jai Shiv Omkara, Swami Jai Shiv Omkara।

Brahma Vishnu Sadashiv, Ardhangi Dhara॥

Aarti In Hindi –

ॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा
ॐ जय शिव ओंकारा

ॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा
ॐ जय शिव ओंकारा

एकानन चतुरानन पञ्चानन राजे
स्वामी पञ्चानन राजे
हंसासन गरूड़ासन
हंसासन गरूड़ासन
वृषवाहन साजे
ॐ जय शिव ओंकारा

दो भुज चार चतुर्भुज, दसभुज ते सोहे
स्वामी दसभुज ते सोहे
तीनों रूप निरखता
तीनों रूप निरखता
त्रिभुवन मन मोहे
ॐ जय शिव ओंकारा

अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी
स्वामी मुण्डमाला धारी
चन्दन मृगमद चंदा
चन्दन मृगमद चंदा
भोले शुभ कारी
ॐ जय शिव ओंकारा

श्वेताम्बर, पीताम्बर, बाघाम्बर अंगे
स्वामी बाघाम्बर अंगे
ब्रह्मादिक संतादिक
ब्रह्मादिक संतादिक
भूतादिक संगे
ॐ जय शिव ओंकारा

कर मध्ये च’कमण्ड चक्र त्रिशूलधरता
स्वामी चक्र त्रिशूलधरता
जग कर्ता जग हरता
जग कर्ता जग हरता
जगपालन करता
ॐ जय शिव ओंकारा

ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव जानत अविवेका
स्वामी जानत अविवेका
प्रनाबाच्क्षर के मध्ये
प्रनाबाच्क्षर के मध्ये
ये तीनों एका
ॐ जय शिव ओंकारा

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ जन गावे
स्वामी जो कोइ जन गावे
कहत शिवानन्द स्वामी
कहत शिवानन्द स्वामी
मनवान्छित फल पावे
ॐ जय शिव ओंकारा

ॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा
ॐ जय शिव ओंकारा

ॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा
ॐ जय शिव ओंकारा

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

Posted on Leave a comment

Shree Ganesh Aarti Lyrics – Anuradha Paudwal

Shri Ganesh Aarti Lyrics

Album: Om Jai Jagdish Hare ( Aartiyan )
Singer: Anuradha Paudwal
Music Director: Arun Paudwal
Music label: T-Series

Shree Ganesh Aarti Lyrics in English –

Jai ganesh jai ganesh jai ganesh deva
mata jaki parvati, pita mahadeva

ekadanta dayavanta, char bhujadhaari
mathe par tilak sohe, muse ki savari

paan charhe, phool charhe aur charhe meva
ladduan ka bhog lage, sant karein seva

Jai ganesh jai ganesh jai ganesh deva
mata jaki parvati, pita mahadeva

andhe ko aankh deta, korhina ko kaya
baanjhana ko putra deta, nirdhana ko maya

soora shyama sharana aaye, saphal kije seva
mata jaki parvati, pita mahadeva

maata jaki parvati, pitaa mahadeva
mataa jaki parvati, pita mahadeva..

Shree Ganesh Aarti Lyrics in Hindi –

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी
माथे पर तिलक सोहे, मूसे की सवारी

पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
लड्डुअन का भोग लगे सन्त करे सेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

अँधे को आँख देत कोढ़िन को काया
बाँझन को पुत्र देत निर्धन को माया

सूर श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा..

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

Want to Enhance Your Listening Experience ?

Try the Sony WI – C200 WIRELESS IN-EAR HEADPHONES

  • BEST BUDGET HEADPHONES
  • UP TO 15 HRS BATTERY LIFE WITH QUICK CHARGE
  • ultra lightweight at 15g design
  • METALLIC FINISH WITH MIC

YOU CAN BUY NOW FROM AMAZON (AFFILIATE ) –

https://amzn.to/2Yfu8eS

Posted on Leave a comment

Shri Sai Chalisa Lyrics In Hindi

SAI CHALISA IN HINDI –

!!  पहले साईं के चरणों में, अपना शीश नमाऊं मैं ,
कैसे शिर्डी साईं आए, सारा हाल सुनाऊं मैं,
 कौन हैं माता, पिता कौन हैं, यह न किसी ने भी जाना,
कहां जनम साईं ने धारा, प्रश्न पहेली रहा बना  !!

!!  कोई कहे अयोध्या के ये, रामचन्द्र भगवान हैं ,
कोई कहता साईंबाबा, पवन-पुत्र हनुमान हैं,
 कोई कहता मंगल मूर्ति, श्री गजानन हैं साईं,
कोई कहता गोकुल-मोहन, देवकी नन्दन हैं साईं  !!

!!  शंकर समझ भक्त कई तो, बाबा को भजते रहते,
कोई कह अवतार दत्त का, पूजा साईं की करते,
 कुछ भी मानो उनको तुम, पर साईं हैं सच्चे भगवान ,
बड़े दयालु, दीनबन्धु, कितनों को दिया है जीवन दान !!  

!!  कई वर्ष पहले की घटना, तुम्हें सुनाऊंगा मैं बात,
किसी भाग्यशाली की, शिर्डी में आई थी बारात,
 आया साथ उसी के था, बालक एक बहुत सुन्दर ,
आया, आकर वहीं बस गया, पावन शिर्डी किया नगर  !!

!!  कई दिनों तक रहा भटकता, भिक्षा मांगी उसने दर-दर,
और दिखाई ऐसी लीला, जग में जो हो गई अमर,
 जैसे-जैसे उमर बढ़ी, वैसे ही बढ़ती गई शान,
घर-घर होने लगा नगर में, साईं बाबा का गुणगान  !!

!!  दिग्-दिगन्त में लगा गूंजने, फिर तो साईंजी का नाम,
दीन-दुखी की रक्षा करना, यही रहा बाबा का काम,
 बाबा के चरणों में जाकर, जो कहता मैं हूं निर्धन ,
दया उसी पर होती उनकी, खुल जाते दु:ख के बन्धन  !!

!!  कभी किसी ने मांगी भिक्षा, दो बाबा मुझको सन्तान,
एवं अस्तु तब कहकर साईं, देते थे उसको वरदान,
 स्वयं दु:खी बाबा हो जाते, दीन-दुखी जन का लख हाल,
अन्त: करण श्री साईं का, सागर जैसा रहा विशाल  !!

!! भक्त एक मद्रासी आया, घर का बहुत बड़ा धनवान,
माल खजाना बेहद उसका, केवल नहीं रही सन्तान,
 लगा मनाने साईं नाथ को, बाबा मुझ पर दया करो,
झंझा से झंकृत नैया को, तुम ही मेरी पार करो  !!

!! कुलदीपक के अभाव में, व्यर्थ है दौलत की माया ,
आज भिखारी बन कर बाबा, शरण तुम्हारी मैं आया,
 दे दो मुझको पुत्र दान, मैं ॠणी रहूंगा जीवन भर ,
और किसी की आस न मुझको, सिर्फ़ भरोसा है तुम पर !!

!!  अनुनय-विनय बहुत की उसने, चरणों में धर के शीश,
तब प्रसन्न होकर बाबा ने, दिया भक्त को यह आशीष,
‘अल्लाह भला करेगा तेरा’, पुत्र जन्म हो तेरे घर,
कृपा होगी तुम पर उसकी, और तेरे उस बालक पर  !!

!!  अब तक नही किसी ने पाया, साईं की कृपा का पार,
पुत्र रत्न दे मद्रासी को, धन्य किया उसका संसार,
 तन-मन से जो भजे उसी का, जग में होता है उद्धार ,
सांच को आंच नहीं है कोई, सदा झूठ की होती हार  !!

!!  मैं हूं सदा सहारे उसके, सदा रहूंगा उसका दास,
साईं जैसा प्रभु मिला है, इतनी ही कम है क्या आस ,
 मेरा भी दिन था इक ऐसा, मिलती नहीं मुझे थी रोटी,
तन पर कपड़ा दूर रहा था, शेष रही नन्हीं सी लंगोटी  !!

!!  सरिता सन्मुख होने पर भी मैं प्यासा का प्यासा था,
दुर्दिन मेरा मेरे ऊपर, दावाग्नि बरसाता था,
 धरती के अतिरिक्त जगत में, मेरा कुछ अवलम्ब न था ,
बना भिखारी मैं दुनिया में, दर-दर ठोकर खाता था !!  

!!  ऐसे में इक मित्र मिला जो, परम भक्त साईं का था,
जंजालों से मुक्त मगर इस, जगती में वह मुझ-सा था,
 बाबा के दर्शन की खातिर, मिल दोनों ने किया विचार ,
साईं जैसे दया-मूर्ति के, दर्शन को हो गए तैयार  !!

!!  पावन शिर्डी नगरी में जाकर, देखी मतवाली मूर्ति,
धन्य जन्म हो गया कि हमने, जब देखी साईं की सूरति,
 जबसे किए हैं दर्शन हमने, दु:ख सारा काफूर हो गया,
संकट सारे मिटे और, विपदाओं का अन्त हो गया !!  

!! मान और सम्मान मिला, भिक्षा में हमको बाबा से,
प्रतिबिम्बित हो उठे जगत में, हम साईं की आभा से,
 बाबा ने सम्मान दिया है, मान दिया इस जीवन में,
इसका ही सम्बल ले मैं, हंसता जाऊंगा जीवन में  !!

!!  साईं की लीला का मेरे, मन पर ऐसा असर हुआ,
लगता जगती के कण-कण में, जैसे हो वह भरा हुआ,
“काशीराम” बाबा का भक्त, इस शिर्डी में रहता था,
 मैं साईं का साईं मेरा, वह दुनिया से कहता था !!  

!! सीकर स्वयं वस्त्र बेचता, ग्राम नगर बाजारों में,
 झंकृत उसकी हृद तन्त्री थी, साईं की झंकारों में,
स्तब्ध निशा थी, थे सोये, रजनी आंचल में चांद-सितारे ,
 नहीं सूझता रहा हाथ को हाथ तिमिर के मारे  !!

!! वस्त्र बेचकर लौट रहा था, हाय! हाट से “काशी”,
 विचित्र बड़ा संयोग कि उस दिन, आता था वह एकाकी ,
 घेर राह में खड़े हो गए, उसे कुटिल, अन्यायी ,
मारो काटो लूटो इस की ही ध्वनि पड़ी सुनाई  !!

!!  लूट पीट कर उसे वहां से, कुटिल गये चम्पत हो,
आघातों से ,मर्माहत हो, उसने दी संज्ञा खो ,
 बहुत देर तक पड़ा रहा वह, वहीं उसी हालत में ,
जाने कब कुछ होश हो उठा, उसको किसी पलक में  !!

!!  अनजाने ही उसके मुंह से, निकल पड़ा था साईं,
जिसकी प्रतिध्वनि शिर्डी में, बाबा को पड़ी सुनाई,
 क्षुब्ध उठा हो मानस उनका, बाबा गए विकल हो,
लगता जैसे घटना सारी, घटी उन्हीं के सम्मुख हो  !!

!!  उन्मादी से इधर-उधर, तब बाबा लगे भटकने,
सम्मुख चीजें जो भी आईं, उनको लगे पटकने ,
 और धधकते अंगारों में, बाबा ने अपना कर डाला,
हुए सशंकित सभी वहां, लख ताण्डव नृत्य निराला  !!

!!  समझ गए सब लोग कि कोई, भक्त पड़ा संकट में,
क्षुभित खड़े थे सभी वहां पर, पड़े हुए विस्मय में,
 उसे बचाने के ही खातिर, बाबा आज विकल हैं,
उसकी ही पीड़ा से पीड़ित, उनका अन्त:स्थल है  !!

!!  इतने में ही विधि ने अपनी, विचित्रता दिखलाई,
लख कर जिसको जनता की, श्रद्धा-सरिता लहराई,
 लेकर कर संज्ञाहीन भक्त को, गाड़ी एक वहां आई,
सम्मुख अपने देख भक्त को, साईं की आंखें भर आईं  !!

!!  शान्त, धीर, गम्भीर सिन्धु-सा, बाबा का अन्त:स्थल ,
आज न जाने क्यों रह-रह कर, हो जाता था चंचल,
 आज दया की मूर्ति स्वयं था, बना हुआ उपचारी ,
और भक्त के लिए आज था, देव बना प्रतिहारी  !!

!!  आज भक्ति की विषम परीक्षा में, सफल हुआ था “काशी” ,
उसके ही दर्शन के खातिर, थे उमड़े नगर-निवासी ,
 जब भी और जहां भी कोई, भक्त पड़े संकट में ,
उसकी रक्षा करने बाबा, आते हैं पलभर में  !!

!!  युग-युग का है सत्य यह, नहीं कोई नई कहानी,
आपातग्रस्त भक्त जब होता, आते खुद अन्तर्यामी,
 भेद-भाव से परे पुजारी, मानवता के थे साईं,
जितने प्यारे हिन्दु-मुस्लिम, उतने ही थे सिक्ख ईसाई  !!

!!  भेद-भाव मन्दिर-मस्जिद का, तोड़-फोड़ बाबा ने डाला,
राम-रहीम सभी उनके थे, कृष्ण-करीम-अल्लाहताला ,
 घण्टे की प्रतिध्वनि से गूंजा, मस्जिद का कोना-कोना,
मिले परस्पर हिन्दू-मुस्लिम, प्यार बढ़ा दिन-दिन दूना  !!

!!  चमत्कार था कितना सुंदर, परिचय इस काया ने दी,
और नीम कडुवाहट में भी, मिठास बाबा ने भर दी,
 सबको स्नेह दिया साईं ने, सबको सन्तुल प्यार किया,
जो कुछ जिसने भी चाहा, बाबा ने उनको वही दिया  !!

!!  ऐसे स्नेह शील भाजन का, नाम सदा जो जपा करे,
पर्वत जैसा दु:ख न क्यों हो, पलभर में वह दूर टरे ,
 साईं जैसा दाता हमने, अरे नहीं देखा कोई ,
जिसके केवल दर्शन से ही, सारी विपदा दूर हो गई  !!

!!  तन में साईं, मन में साईं, साईं-साईं भजा करो ,
अपने तन की सुधि-बुधि खोकर, सुधि उसकी तुम किया करो,
 जब तू अपनी सुधि तज, बाबा की सुधि किया करेगा ,
और रात-दिन बाबा, बाबा ही तू रटा करेगा  !!

!!  तो बाबा को अरे! विवश हो, सुधि तेरी लेनी ही होगी,
तेरी हर इच्छा बाबा को, पूरी ही करनी होगी,
 जंगल-जंगल भटक न पागल, और ढूंढ़ने बाबा को ,
एक जगह केवल शिर्डी में, तू पायेगा बाबा को  !!

!!  धन्य जगत में प्राणी है वह, जिसने बाबा को पाया,
दु:ख में सुख में प्रहर आठ हो, साईं का ही गुण गाया ,
 गिरें संकटों के पर्वत, चाहे बिजली ही टूट पड़े,
साईं का ले नाम सदा तुम, सम्मुख सब के रहो अड़े  !!

!!  इस बूढ़े की करामात सुन, तुम हो जाओगे हैरान,
दंग रह गये सुनकर जिसको, जाने कितने चतुर सुजान,
 एक बार शिर्डी में साधू, ढ़ोंगी था कोई आया,
भोली-भाली नगर-निवासी, जनता को था भरमाया  !!

!!  जड़ी-बूटियां उन्हें दिखाकर, करने लगा वहां भाषण,
कहने लगा सुनो श्रोतागण, घर मेरा है वृन्दावन ,
 औषधि मेरे पास एक है, और अजब इसमें शक्ति,
इसके सेवन करने से ही, हो जाती दु:ख से मुक्ति  !!

!!  अगर मुक्त होना चाहो तुम, संकट से बीमारी से,
तो है मेरा नम्र निवेदन, हर नर से हर नारी से,
 लो खरीद तुम इसको इसकी, सेवन विधियां हैं न्यारी ,
यद्यपि तुच्छ वस्तु है यह, गुण उसके हैं अति भारी  !!

!!  जो है संतति हीन यहां यदि, मेरी औषधि को खायें,
पुत्र-रत्न हो प्राप्त, अरे वह मुंह मांगा फल पायें,
 औषधि मेरी जो न खरीदे, जीवन भर पछतायेगा,
मुझ जैसा प्राणी शायद ही, अरे यहां आ पायेगा  !!

!! दुनियां दो दिन का मेला है, मौज शौक तुम भी कर लो,
गर इससे मिलता है, सब कुछ, तुम भी इसको ले लो,
 हैरानी बढ़ती जनता की, लख इसकी कारस्तानी,
प्रमुदित वह भी मन ही मन था, लख लोगो की नादानी !!  

!! खबर सुनाने बाबा को यह, गया दौड़कर सेवक एक,
सुनकर भृकुटि तनी और, विस्मरण हो गया सभी विवेक,
 हुक्म दिया सेवक को, सत्वर पकड़ दुष्ट को लाओ ,
या शिर्डी की सीमा से, कपटी को दूर भगाओ !!

!!  मेरे रहते भोली-भाली, शिर्डी की जनता को,
कौन नीच ऐसा जो, साहस करता है छलने को,
 पल भर में ही ऐसे ढ़ोंगी, कपटी नीच लुटेरे को,
महानाश के महागर्त में, पहुंचा दूं जीवन भर को  !!

!! तनिक मिला आभास मदारी क्रूर कुटिल अन्यायी को ,
काल नाचता है अब सिर पर, गुस्सा आया साईं को,
 पल भर में सब खेल बन्द कर, भागा सिर पर रखकर पैर,
सोच था मन ही मन, भगवान नहीं है अब खैर !!  

  !! सच है साईं जैसा दानी, मिल न सकेगा जग में,
अंश ईश का साईंबाबा, उन्हें न कुछ भी मुश्किल जग में ,
 स्नेह, शील, सौजन्य आदि का, आभूषण धारण कर,
बढ़ता इस दुनिया में जो भी, मानव-सेवा के पथ पर  !!

!! वही जीत लेता है जगती के, जन-जन का अन्त:स्थल,
उसकी एक उदासी ही जग को कर देती है विह्वल,
 जब-जब जग में भार पाप का, बढ़ बढ़ ही जाता है,
उसे मिटाने के ही खातिर, अवतारी ही आता है !!  

!!  पाप और अन्याय सभी कुछ, इस जगती का हर के,
दूर भगा देता दुनिया के, दानव को क्षण भर में,
 स्नेह सुधा की धार बरसने, लगती है इस दुनिया में,
गले परस्पर मिलने लगते, हैं जन-जन आपस में  !!

!!  ऐसे ही अवतारी साईं, मृत्युलोक में आकर,
समता का यह पाठ पढ़ाया, सबको अपना आप मिटाकर,
 नाम द्वारका मस्जिद का, रक्खा शिर्डी में साईं ने,
दाप, ताप, सन्ताप मिटाया, जो कुछ आया साईं ने  !!

!!  सदा याद में मस्त राम की, बैठे रहते थे साईं,
पहर आठ ही राम नाम का, भजते रहते थे साईं,
 सूखी-रूखी, ताजी-बासी, चाहे या होवे पकवान,
सदा प्यार के भूखे साईं की, खातिर थे सभी समान  !!

 !! स्नेह और श्रद्धा से अपनी, जन जो कुछ दे जाते थे ,
बड़े चाव से उस भोजन को, बाबा पावन करते थे ,
 कभी-कभी मन बहलाने को, बाबा बाग में जाते थे,
प्रमुदित मन निरख प्रकृति, छटा को वे होते थे  !!

!! रंग-बिरंगे पुष्प बाग के, मन्द-मन्द हिल-डुल करके,
बीहड़ वीराने मन में भी, स्नेह सलिल भर जाते थे,
 ऐसी सुमधुर बेला में भी, दु:ख आपात विपदा के मारे,
अपने मन की व्यथा सुनाने, जन रहते बाबा को घेरे  !!

!!  सुनकर जिनकी करूण कथा को, नयन कमल भर आते थे,
दे विभूति हर व्यथा,शान्ति, उनके उर में भर देते थे,
 जाने क्या अद्भुत,शक्ति, उस विभूति में होती थी,
जो धारण करते मस्तक पर, दु:ख सारा हर लेती थी  !!

!!  धन्य मनुज वे साक्षात् दर्शन, जो बाबा साईं के पाये ,
धन्य कमल-कर उनके जिनसे, चरण-कमल वे परसाये,
 काश निर्भय तुमको भी, साक्षात साईं मिल जाता ,
बरसों से उजड़ा चमन अपना, फिर से आज खिल जाता  !!

!! गर पकड़ता मैं चरण श्री के, नहीं छोड़ता उम्रभर,
मना लेता मैं जरूर उनको, गर रूठते साईं मुझ पर  !!

Print Lyrics

Watch Video On Youtube –

Posted on Leave a comment

Hanuman Chalisa Lyrics – Hariharan

SHREE HANUMAN CHALISA – HARIHARAN

Lyrics –

॥दोहा॥

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि ।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥

बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरौं पवन-कुमार ।
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं हरहु कलेस बिकार ॥

॥चौपाई॥

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर ।
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ॥१॥

राम दूत अतुलित बल धामा ।
अञ्जनि-पुत्र पवनसुत नामा ॥२॥

महाबीर बिक्रम बजरङ्गी ।
कुमति निवार सुमति के सङ्गी ॥३॥

कञ्चन बरन बिराज सुबेसा ।
कानन कुण्डल कुञ्चित केसा ॥४॥
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै ।
काँधे मूँज जनेउ साजै ॥५॥

सङ्कर सुवन केसरीनन्दन ।
तेज प्रताप महा जग बन्दन ॥६॥

बिद्यावान गुनी अति चातुर ।
राम काज करिबे को आतुर ॥७॥

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया ।
राम लखन सीता मन बसिया ॥८॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा ।
बिकट रूप धरि लङ्क जरावा ॥९॥

भीम रूप धरि असुर सँहारे ।
रामचन्द्र के काज सँवारे ॥१०॥

लाय सञ्जीवन लखन जियाये ।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये ॥११॥

रघुपति कीह्नी बहुत बड़ाई ।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई ॥१२॥

सहस बदन तुह्मारो जस गावैं ।
अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावैं ॥१३॥

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा ।
नारद सारद सहित अहीसा ॥१४॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते ।
कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते ॥१५॥

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीह्ना ।
राम मिलाय राज पद दीह्ना ॥१६॥

तुह्मरो मन्त्र बिभीषन माना ।
लङ्केस्वर भए सब जग जाना ॥१७॥

जुग सहस्र जोजन पर भानु ।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू ॥१८॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं ।
जलधि लाँघि गये अचरज नाहीं ॥१९॥

दुर्गम काज जगत के जेते ।
सुगम अनुग्रह तुह्मरे तेते ॥२०॥

राम दुआरे तुम रखवारे ।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे ॥२१॥

सब सुख लहै तुह्मारी सरना ।
तुम रच्छक काहू को डर ना ॥२२॥

आपन तेज सह्मारो आपै ।
तीनों लोक हाँक तें काँपै ॥२३॥

भूत पिसाच निकट नहिं आवै ।
महाबीर जब नाम सुनावै ॥२४॥

नासै रोग हरै सब पीरा ।
जपत निरन्तर हनुमत बीरा ॥२५॥

सङ्कट तें हनुमान छुड़ावै ।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै ॥२६॥

सब पर राम तपस्वी राजा ।
तिन के काज सकल तुम साजा ॥२७॥

और मनोरथ जो कोई लावै ।
सोई अमित जीवन फल पावै ॥२८॥

चारों जुग परताप तुह्मारा ।
है परसिद्ध जगत उजियारा ॥२९॥

साधु सन्त के तुम रखवारे ।
असुर निकन्दन राम दुलारे ॥३०॥

अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता ।
अस बर दीन जानकी माता ॥३१॥

राम रसायन तुह्मरे पासा ।
सदा रहो रघुपति के दासा ॥३२॥

तुह्मरे भजन राम को पावै ।
जनम जनम के दुख बिसरावै ॥३३॥

अन्त काल रघुबर पुर जाई ।
जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई ॥३४॥

और देवता चित्त न धरई ।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई ॥३५॥

सङ्कट कटै मिटै सब पीरा ।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा ॥३६॥

जय जय जय हनुमान गोसाईं ।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं ॥३७॥

जो सत बार पाठ कर कोई ।
छूटहि बन्दि महा सुख होई ॥३८॥

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा ।
होय सिद्धि साखी गौरीसा ॥३९॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा ।
कीजै नाथ हृदय महँ डेरा ॥४०॥

॥दोहा॥

पवनतनय सङ्कट हरन मङ्गल मूरति रूप ।
राम लखन सीता सहित हृदय बसहु सुर भूप ॥

Print Lyrics

Shree Hanuman Chalisa on Youtube –